Sunday, 17 December 2017

तर्क-वितर्क भाषणबाजी ले...

तर्क-वितर्क भाषणबाजी ले नइ हो जाय कोनो ज्ञानी
चटर-पटर लपराही गोठ ल हम साधना कइसे मानी
जे भटकथे अइसन के पाछू उनला अज्ञानी सिरतो जान
बिना तप-साधना के बिरथा होथे कतकों कागजी ज्ञान

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

No comments:

Post a Comment