Monday, 18 December 2017

छत्तीसगढी में धन्यवाद?

छत्तीसगढी भाषा की समृद्धि को कमतर आंकने वाले अक्सर मुझसे यह प्रश्न कर बैठते हैं, कि छत्तीसगढी में धन्यवाद को क्या कहते हैं?

मैं समझ जाता हूं कि ऐसे लोगों को यहां की मूल संस्कृति का जरा भी ज्ञान नहीं है। धन्यवाद ज्ञापित करने का भावार्थ किसी के द्वारा हमारे लिए किए गये अच्छे कार्य या सहयोग का आभार व्यक्त करना होता है।

छत्तीसगढी संस्कृति में ऐसे कार्यों के लिए केवल आभार व्यक्त करने की परंपरा नहीं है , अपितु साथ में उन्हें शुभकामनाएं व्यक्त करने की भी परंपरा है। इसीलिए हमारे यहां किसी के अच्छे कार्य करने पर उसे कहा जाता है- "बने करे बाबू, भगवान तोर भला करय।" इसके लिए हम- "तोर भला होय" शब्द का उपयोग भी परिस्थिति के अनुसार कर सकते हैं।

यह हमारी संस्कृति की महानता है, हम केवल आभार व्यक्त नहीं करते, अपितु साथ में उनके लिए शुभकामनाएं भी व्यक्त करते हैं। ऐसी गौरवशाली संस्कृति से केवल आभार व्यक्त कर अपने को महान समझने की भूल करने वालों को धन्यवाद के लिए शब्द भंडार का विकल्प पूछने के बजाय इस संस्कृति गहराई को समझना और आत्मसात करना चाहिए।

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

No comments:

Post a Comment