Friday, 9 March 2018

**....हमर मूल परब-तिहार..**

*     चैत अंजोरी ए·म - हमर संस्कृति के नवा बछर
* चैत अंजोरी नवमी - नवरात (माता शक्ति ·के सती रूप म अवतरण दिवस)
* बइसाख अंजोरी तीज - अक्ति (किसानी ·के नवा बछर)
* असाढ़ महीना भर - जुड़वास
* असाढ़ पुन्नी - गुरु पूर्णिमा
* सावन अमावस - सवनाही / हरेली (मांत्रिक शक्ति प्रागट्य दिवस)
* सावन अंजोरी पंचमी - नाग पंचमी (वासुकी जन्मोत्सव)
* सावन अंजोरी पंचमी/नवमी ले पूर्णिमा तक- भोजली परब
* सावन पुन्नी - परमात्मा के शिव लिंग रूप म अवतरण दिवस
* भादो अंधियारी छठ - कमरछठ (कर्तिकेय जन्मोत्सव)
* भादो अमावस - पोरा (नंदीश्वर जन्मोत्सव)
* भादो अंजोरी चौथ - गणेश जन्मोत्सव
* ऋषि पंचमी/दशहरा/अन्नकूट - नवा खाई (एला अलग-अलग समुदाय के मन अलग-अलग दिन मनाथें)
* कुंवार अंधियारी पाख - पितर पाख
* कुंवार अंजोरी नवमी - नवरात (माता शक्ति के पार्वती रूप म अवतरण दिवस)
* कुंवार अंजोरी दशमी - दंसहरा (समुद्र मंथन ले निकले विष के हरण दिवस)
* कुंवार पुन्नी - शरद पुन्नी (समुद्र मंथन ले निकले अमरित पाए के परब)
* कातिक अंधियारी पाख - कातिक नहाए अउ सुवा नाच के माध्यम ले ईसरदेव-
गौरा के बिहाव के तैयारी परब-पाख
* कातिक अमावस - गौरी-गौरा परब (ईसरदेव-गौरा बिहाव परब)
* कातिकपुन्नी ले शिवरात्रि तक - मेला-मड़ई के परब
* अगहन पुन्नी - परमात्मा के ज्योति स्वरूप म प्रगट दिवस
* माघ अंजोरी पंचमी - बसंत पंचमी (शिव तपस्या भंग करे बर कामदेव अउ रति
के आगमन के प्रतीक स्वरूप अंडा पेंड़ (अरंडी) गडिय़ाना, नाचना-गाना सवा
महीना के परब मनाना)
* पूस पुन्नी - छेरछेरा (शिवजी द्वारा पार्वती घर नट बनकर जाकर भिक्षा मांगने का परब )
* फागुन अंधियारी तेरस - महाशिवरात्रि (परमात्मा के जटाधारी रूप म प्रगटोत्सव पर्व)
* फागुन पुन्नी - होली / कामदहन परब (तपस्या भंग करे के उदिम करत कामदेव
ल क्रोधित शिव द्वारा तीसरा नेत्र खोल के भसम करे के परब)
* चैत अंधियारी पाख - गौना (गवन) के पाख ।

-सुशील भोले
आदि धर्म जागृति संस्थान
54/191, डाॅ . बघेल गली, संजय नगर
(टिकरापारा) रायपुर (छत्तीसगढ)
मो/व्हा. 9826992811, 7974725684

No comments:

Post a Comment