Friday, 24 November 2017

मौन के मारे मर जाथे जी ..

















मौन के मारे मर जाथे जी कतकों निरलज मनखे
हे अतेक ताकत एमा चाहे वो राहय कतकों तनके
एकरे सेती गुनिक जन मन एकरे सीख सिखाथें
चटर-पटर लपराही गोठ ले बांचे के रद्दा धराथें

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

धरम भूमि म आए हौ त करम
















धरम भूमि म आए हौ त करम के कोठी भरना परही
उप्पर वाला जिनगी देहे फेर खुद वोला गढना परही
भाग के रेखा तो मारग ए जेमा चलना अपने ल परथे
इही सफलता के मंत्र ए तभे दिया के अंजोर बगरथे

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

जय भोरम देव

छत्तीसगढ में नागवंशीय राजाओं द्वारा 11 वीं सदी में निर्मित अमर कृति🌷





नर्मदा उदगम कुंड अमरकंटक







माँ शारदा देवी मैहर का प्रातः दर्शन






सती अनुसुइया आश्रम, चित्रकूट भ्रमण





चित्रकूट दर्शन, रामघाट पर मंदाकिनी स्नान





गंगा घाट पर, इलाहाबाद





गंगा दर्शन, इलाहाबाद




दैवीय उपस्थिति और ऊर्जा का अहसास


चाहे किसी भी धर्म, पंथ या सम्प्रदाय का उपासना स्थल हो सभी जगह एक जैसा ही दैवीय उपस्थिति और ऊर्जा का अहसास होता है।

मैं बचपन से ही ऐसे स्थलों पर जाता रहा हूं, तब मुझे इस बात का अहसास तो नहीं हो पाता था, लेकिन जब से विधिवत साधना के मार्ग पर आया हूं, तब से मुझे इसका स्पष्ट अहसास और अनुभव होने लगा है।

अनेक मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारा, चर्च, मठ, साधना और तपस्या स्थल पर जाने का संयोग बनता रहा है। कई ऐतिहासिक और पुरातत्वीय महत्व के स्थलों को भी देखने-जानने का अवसर मिला। जहां भी विधिवत पूजा-उपासना होती है, सभी जगह उनकी उपस्थिति और उनसे मिलने वाली ऊर्जा का अहसास हुआ।

इस बात से एक चीज तो स्पष्ट हुआ कि हर धर्म, पंथ और सम्प्रदाय से संबंधित उपासना स्थल और पूजा-उपासना की विधि का एक जैसा ही महत्व है। सभी के माध्यम से आध्यात्मिक अनुभव और ऊर्जा प्राप्त की जा सकती है।


   *    *     **

तीरथ-बरत कर आएन जोहीं देव-दर्शन ल पाएन
अलग-अलग देव-ठिकाना फेर एके तत्व जनाएन
पूजा विधि सबके अलगे किस्सा घलो आनेच आन
फेर सार-तत्व ल सबके गोई सिरतोन एक्के जान



-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर

मो. 9826992811

जाग गे चिरइया मन .














जाग गे चिरइया मन पारथें गोहार
जुड़हा जोहार ले ले जुड़हा जोहार
आना असनांदे जाबो नंदिया कछार
धर मुखारी-कपड़ा ल हब ले निकार
कतकों जाड़ दंदोरथे तभो मंजा आथे
गोरसी तापत अंगाकर घातेच सुहाथे
चारेच महीना ए बने देंह-पांव बनाले
साल भर के बांटा ल ठउका पोगराले
फेर तंदुरूस्ती म तोर आही निखार
जुड़हा जोहार ले ले जी जुड़हा जोहार

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

Thursday, 9 November 2017

सुषैन वैद्य का समाधि स्थल...

सुषैन वैद्य का समाधि स्थल...

धरम भूमि म आए हौ त करम ..














धरम भूमि म आए हौ त करम के कोठी भरना परही
उप्पर वाला जिनगी देहे फेर खुद वोला गढना परही
भाग के रेखा तो मारग ए जेमा चलना अपने ल परथे
इही सफलता के मंत्र ए तभे दिया के अंजोर बगरथे

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

मौन के मारे मर जाथे जी कतकों ..















मौन के मारे मर जाथे जी कतकों निरलज मनखे
हे अतेक ताकत एमा चाहे वो राहय कतकों तनके
एकरे सेती गुनिक जन मन एकरे सीख सिखाथें
चटर-पटर लपराही गोठ ले बांचे के रद्दा धराथें

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

Tuesday, 7 November 2017

जब मैं बसथौं जी संगी मानव-सेवा ..


















जब मैं बसथौं जी संगी मानव-सेवा के निरमल-ग्रंथ म
तब काबर खोजथस तैं मोला जाति धरम अउ पंथ म
सिरतोन संगी एकरे सेती भटकत हस कतकों योनी म
अब समझ मोला पाए के रद्दा नइते जाबे फेर पुरोनी म

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

बस छीना-झपटी म पाथस ..













बस छीना-झपटी म पाथस तैं कोनो मंच म ठीहा
का उकतावय नहीं जी तोर अइसन करनी म जी हा
देख हमर सत्-संतोष के रद्दा जेमा हम रेंगत हावन
लोगन आरो खुदेच लेथें संग दिल म आसन पाथन

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

Saturday, 4 November 2017

खुदेच उठाना परथे बोझा जब ...


















खुदेच उठाना परथे बोझा जब तक तन म स्वांसा हे
खोरवा-लुलुवा हो जावौ भले इही बंधना के फांसा हे
चार खांध तो तभे मिलही जब जीव शिव संग मिलही
तब तक घिलर के रेंगना परही जब तक एहर खटही

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो. 9826992811

करिया कुकुर कूं-कूं करत लफ ...













करिया कुकुर कूं-कूं करत लफ ले जीभ लमाथे
मंत्री-संत्री के बंगला म निच्चट के डेरा जमाथे
अउ टांग उठा के गाना गाथे संग पूछी डोलाथे
अतकेच म जी संगी वो कतकों ईनाम पा जाथे

सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर (छ.ग.)
मोबा. नं. 98269-92811

आ चल कान म खोंच लेथन ...















आ चल कान म खोंच लेथन मया के दौना पान
फेर बन जाबो दूनों झन जी कई जुग बर मितान
चलत रइही पीढी तक फेर हम दूनों के ए बदना
एक पेट के उपजे ले आगर पबरित रइही बंधना

सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर (छ.ग.)
मोबा. नं. 98269-92811

मया होगे हे एक जोगिन संग ...














मया होगे हे एक जोगिन संग कइसे बितही जिनगी
बिच्छल पेंड़वा अउ डारा हे, जेमा बइठे हे वो फुनगी
कइसे चढ़बे सरग निसैनी, थेगहा तो कुछू के नइए
बस चकवा सहीं बीत जाही का ए जिनगी के खनगी

सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर (छ.ग.)
मोबा. नं. 98269-92811

Sunday, 29 October 2017

रोज नंदावत हावय संगी हमर भाखा ...

रोज नंदावत हावय संगी हमर भाखा के पहिचान
घर बइठे हम सुनत रहिथन अन्ते-तन्ते के गुनगान
कला-संस्कृति इतिहास घलो म इही बीमारी आगे हे
चोट्टा लबरा अउ दलाल मन लेखक बन सकलागे हे

 -सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो नं 9826992811

डारा-शाखा म कतेक बिछलबे पेंड़वा ...

डारा-शाखा म कतेक बिछलबे पेंड़वा ल सीधा धरले
जड़ संग जइसे वो ठोस रथे फेर तइसन जिनगी गढले
कतेक अमरबे पान-पतइला डारा तो रट ले टूट जाही
फेर इंकरे चक्कर म मूल घलो तोर हाथ ले छूट जाही

(जय मूल देवता - जय मूल संस्कृति)

 -सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर

मो नं 9826992811

Wednesday, 25 October 2017

सुवा - केवल नृत्य या संस्कृति ?


अभी सुवा नृत्य को लेकर विश्व रिकार्ड बनाने के लिए एक आयोजन किया जाने वाला है। इसके प्रचार-प्रसार के तरीके को देखकर मन में सहसा एक विचार कौंध गया- " क्या सुवा केवल एक लोकनृत्य है या धर्म आधारित संस्कृति का एक अंग?

निश्चित रूप से सुवा नृत्य यहां के मूल धर्म पर आधारित संस्कृति का एक अंग है, जिसे केवल लोकनृत्य कहना उसके मूल कारण और संदर्भ को अनदेखा करना है।यह गीत-नृत्य कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष में केवल 15 दिनों तक ही प्रदर्शित किया जाता है। जिसका मूल कारण कार्तिक अमावस्या को संपन्न होने वाले गौरा-ईसरदेव विवाह पर्व का संदेश देना होता है।

हमारे यहां के मूल धर्म और संस्कृति को बाहर से पोथी-पतरा लेकर आने वाले फर्जी विद्वानों ने बहुत नुकसान पहुंचाया है। सुवा गीत को ये लोग नारी विरह का गीत भी कहते हैं। यहां के तथाकथित भाषा वैज्ञानिक और संस्कृति मर्मज्ञ लोग अपने शोध ग्रंथों एवं आलेखों में ऐसा अनेक स्थानों पर उल्लेख किए हैं।

मैं सुवा नृत्य को लेकर किए जाने वाले महोत्सव का स्वागत करता हूं, लेकिन साथ ही यह सुझाव भी देना चाहता हूं कि इसके साथ इसके मूल कारण और संदर्भ को भी प्रचारित किया जाए।

 -सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो नं 9826992811

Tuesday, 24 October 2017

चार महीना खूब कमाएन अब..












चार महीना खूब कमाएन अब आए हवय लुवाई
अन्नपूर्णा बन के आही संगी हमर घर लक्ष्मी दाई
लू-लू के करपा मढाबो अउ फेर जी बांधबो बोझा
ओसा-मिंज के परघाबो तब होही जिनगी के जोखा

 -सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर
मो नं 9826992811

Sunday, 22 October 2017

दिन-देवारी बीतगे जी छुट्टी..





















दिन-देवारी बीतगे जी छुट्टी के दिन रीतगे
आरो मिलत हे जाड़ के देखौ खेत जम्मो सीतगे
अब ओरी-ओरी हंसिया धरे खेत सबो जाहीं
तब लक्ष्मी माता अन्नपूर्णा बन कोठी म हमाहीं

-सुशील भोले
संजय नगर, रायपुर

मो. 9826992811

सुरहुत्ती...