Sunday, 20 March 2016

काम दहन हो जाये फिर से....












काम दहन हो जाये फिर से शिव जी अब की होली में
रति नृत्य की टूटे श्रृंखला सात्विकता आये बोली में
बच्चा-बच्चा डूब गया है नशा-चिलम की गोली में
नैतिकता देखो जल रही झूठे-पाखण्डों की टोली में

सुशील भोलेसंजय नगर, रायपुर (छ.ग.)
मोबा. नं. 080853-05931, 098269-92811

Thursday, 3 March 2016

पवन दीवान जी का सानिध्य...

ब्रम्हलीन संत कवि पवन दीवान जी के सानिध्य का सौभाग्य मुझे  कई अवसरों पर मिलता रहा है...





Wednesday, 2 March 2016

क्यों शांत हो गये पवन...
















आँधी का रूप दिखाकर क्यों शांत हो गये पवन
तेरे ठहाकों से गूंज रहा है, अब भी धरा-गगन
काम अभी भी कई शेष हैं जो तुमने प्रारंभ किए
छत्तीसगढ़ियों के सपनों को कुछ-कुछ पूर्ण किए
उन्हें पूर्ण करने का हम तो, अब देते हैं वचन
यही हमारी श्रद्धांजलि है, शत-शत तुम्हें नमन


* सुशील भोले *